भ्रष्टाचार पर सरकार की पैनी नजर, पांच आरटीओ सस्पेंड।

देशभर में भ्रष्टाचार आज एक ऐसी बीमारी बन चुका है जो कि लाइलाज दिख रही है वहीं कुछ ऐसे महकमे है खासतौर पर जिनके अंदर भ्रष्टाचार बहुत बड़े स्तर पर देखने को मिल रहा। आम जनता के लिए यह एक बहुत बड़ी समस्या बनकर भी सामने आ रही है।



वही उत्तर प्रदेश से एक भ्रष्टाचार का मामला सामने आया है जहां पर पांच आरटीओ को प्रदेश सरकार ने सस्पेंड किया है उनके ऊपर परिवहन विभाग में भ्रष्टाचार की फाइल जलाने का आरोप है। शासन का यह मानना है कि यह पांचो आरटीओ भ्रष्टाचार में लिप्त है और इनकी पहचान इस प्रकार है।


संजय झा, मोहम्मद हसीब, संजय तिवारी, पुष्पांजलि गौतम, शांति भूषण पांडे इन सभी को मुख्य सचिव परिवहन ने सस्पेंड किया है और आगे की तफ्तीश जारी है।


Featured Post

दिल्ली पुलिस का दिल क्यों सुकड़ गया?

दिल्ली (मोंटू राजा) पीड़ित से रंगदार द्वारा 25000 रंगदारी की मांग, न देने पर जान से मारने की धमकी! अब तक पुलिस द्वारा कोई कार्यवाही नहीं।  य...