पहली बार तिहाड़ में एक साथ चार कैदियों को दी जाएगी फांसी

*कानपुर ब्रेकिंग न्यूज़ इस वक्त की बहुत बड़ी खबर आ रही है नई दिल्ली*
      *आशू यादव की कलम कानपुर से खास रिपोर्ट उत्तर प्रदेश कानपुर*
      
            *2012 Delhi Nirbhaya Case: पहली बार तिहाड़ में एक साथ चार कैदियों को दी जाएगी फांसी*



     
     *नई दिल्ली निर्भय केस निर्भय के चारों दोषियों विनय कुमार शर्मा (Vinay Kumar Sharma). पवन कुमार गुप्ता (Pawan Kumar Gupta). मुकेश सिंह (Mukesh Singh). और अक्षय कुमार सिंह (Akshay को शुक्रवार सुबह 5:30 बजे फंदी दी जाएगी आइए जानते हैं कैसे तिहाड़ जेल संख्या तीन में दी जा रही यह फांसी कई इतिहास रचने जा रही है*


      *आशू यादव SUB ब्यूरो चीफ कानपुर*



*उत्तर भारत में पहली बार दी जा रही एकसाथ 4 को फांसी*


*उत्तर भारत के इतिहास में यह पहला मौका है, जब एक साथ चार कैदियों को तिहाड़ जेल में फांसी दी जाएगी। इससे पहले महाराष्ट्र की पुणे स्थित जेल में जोशी-अभयंकर मामले में 25 अक्टूबर, 1983 को चार कैदियों को देश में एक साथ पहली बार फांसी दी गई थी। यह मामला भी काफी चर्चित हुआ था, लेकिन उस समय मीडिया की सुर्खियों में इतना नहीं रहा, जितना कि दिल्ली का निर्भया केस।* 
    
            *21वीं सदी में पहली बार कोई जल्लाद देगा एक साथ 4 को फांसी* 


*शुक्रवार सुबह तिहाड़ जेल में चारों दोषियों को दी जानी वाली फांसी एक इतिहास और भी रचेगी। दरअसल, इसी जेल में इससे पहले जल्लाद पवन के दादा ने इंदिरा गांधी के हत्यारों सतवंत सिंह और केहर सिंह को तिहाड़ जेल में ही फांसी पर लटकाया था।*


*दादा ने 2 को फांसी दी, पोता देगा चार को*


*पवन तीसरी पीढ़ी के जल्लाद हैं, जो पहली बार चार कैदियों को एकसाथ फांसी पर लटकाएंगे। इसी के साथ इनके दादा ने ही रंगा-बिल्ला को भी फांसी पर चढ़ाया, जिन्होंने गीता चोपड़ा के साथ पहले तो सामूहिक दुष्कर्म किया फिर गीता और उसके भाई को मार डाला था।*


*पहली बार किसी जल्लाद को मिलेगी इतनी बड़ी रकम*


*बता दें कि मेरठ से आए जल्लाद पवन को चारों दोषियों को फांसी देने की एवज में कुल 60,000 रुपये अदा करेगा। यह पहला मौका होगा, जब किसी जल्लाद को इतनी ज्यादा रकम दी जाएगी। कुल मिलाकर प्रत्येक फांसी के लिए पवन जल्लाद को 15,000 रुपये दिए जाएंगे।*


*आशू यादव की कलम कानपुर से खास रिपोर्ट। उत्तर प्रदेश, कानपुर*


*इसी महीने 5 मार्च को दिल्ली *की पटियाला हाउस कोर्ट ने अक्षय, मुकेश, पवन और विनय *शर्मा को फांसी देने के लिए *चौथा डेथ वारंट जारी किया था।*
*16 दिसंबर, 2012 को दिल्ली के* *वसंत विहार इलाके में 23 वर्षीय पैरामेडिकल की छात्रा के साथ दिल्ली के वसंत विहार इलाके में सामूहिक दुष्कर्म हुआ था।*
*चलती बस में 16 दिसंबर की रात को छह दरिंदों (राम सिंह, एक नाबालिग, विनय, पवन, अक्षय और मुकेश) ने निर्भया के *साथ इस कदर दरिंदगी की वह कई दिनों तक अस्पताल में भर्ती रही।*
*घटना के बाद करीब 15 दिन तक पीड़िता ने सिंगापुर के एक* *अस्पताल में दम तोड़ दिया था।*
*एक आरोपित राम सिंह ने वर्ष 2013 में तिहाड़ जेल में ही आत्महत्या कर ली थी।*
*नाबालिग को 2015 में रिहा कर दिया गया था, उसने सुधार गृह में तीन साल का समय बिताए थे। फिलहाल यह क्या कर रहा है इसके बारे में जानकारी गुप्त रखी गई है।*