इमरान प्रतापगढ़ी कांग्रेस के मुस्लिम कद्दावर नेता बनने की राह पर


सफल होंगे या असफल मगर 

मेनीफेस्टो कमेटी में सदस्य नियुक्त कर बनाया और प्रभावशाली


नई दिल्ली




 कांग्रेस पार्टी ने अंदरूनी तौर पर लोकसभा चुनाव की तैयारी शुरू कर दी है कांग्रेस ने गत दो दिन पहले अपनी मेनीफेस्टो कमेटी का गठन किया है इस कमेटी में जहां कांग्रेस के शीर्ष वरिष्ठ नेताओं को जगह दी गई है वहीं इस मेनीफेस्टो कमेटी में इमरान प्रतापगढ़ी का नाम होना सभी को हैरान करने वाला है राजनीतिक तौर पर बेहद महत्वपूर्ण मानी जाने वाली इस कमेटी में इमरान प्रतापगढ़ी का नाम हैं सूत्रों को माने तो राजनीतिक आंकड़ेबाज हतप्रभ है आश्चर्यचकित है कि जिस कमेटी का चेयरमैन पी चिदंबरम को बनाया गया है और कमेटी में प्रियंका गांधी वाड्रा और जयराम रमेश जैसे नेताओं को जगह दी गई है उसमे इमरान प्रतापगढ़ी को भी शामिल करना बहुत सोचा समझा फैसला है क्योंकि इमरान अभी युवा है, 





हाल ही में राज्यसभा सांसद बनाया गया था,फिर वो स्टार प्रचारक बनाए गए ! अब उन्हें मेनीफेस्टो कमेटी में रखा गया है , जो काफी बड़ी बात है। यह थोड़ा अधिक हो रहा है। कुछ कहते हैं कि उन्हें राहुल गांधी का भरपूर समर्थन हासिल है।कांग्रेस का एक समूह उनकी आलोचना करने के बहाने न मिलने पर खिसियाने लगता है। उन पर कीचड़ उछालने की साजिश रचता है लेकिन कांग्रेस का एक घड़ा प्रतापगढ़ी को लंबी रेस का घोड़ा मानता है और इमरान की प्रतिभा वफादारी मेहनत और हर मोर्चे पर कांग्रेस के लिए डटे रहना भी उनको अलग कतार में खड़ा करता है हाल ही में संपन्न हुए विधानसभा चुनावो में कांग्रेस के लिए नतीजे चाहे कुछ भी रहे हो लेकिन तेलंगाना में कांग्रेस की बंपर जीत के लिए प्रतापगढ़ी को भी श्रेय देते हैं तेलंगाना में इमरान प्रतापगढ़ी का नारा "बाय बाय केसीआर" बहुत पॉपुलर हुआ और इमरान ने खुद चुनाव प्रचार के दौरान अपना नारा "बाय बाय केसीआर" घर घर तक पहुंचाया। राजनीतिक पंडितों की माने तो इमरान प्रतापगढ़ी आने वाले समय में इससे भी बहुत आगे जा सकते हैं !वो आदर्श भारतीय मुस्लिम है।


मात्र 35 साल की आयु में देश के सबसे ईमानदार और अडिग नेता राहुल गांधी का भरोसा हासिल करना मामूली बात हो ही नही सकती।शीर्ष नेतृत्व की इमरान को पसंद करने की एक वज़ह शायद यह भी है कि प्रतापगढ़ी ब्रॉडमाइंड है और सबके साथ मिलकर और सबको साथ लेकर काम करने को अपनी ताकत मानते हैं यही दृष्टिकोण यही योग्यता उन्हें अब तक के तमाम मुस्लिम नेताओ में सबसे अलग सकारात्मक और विजनरी बनाता हैं मगर इमरान आगे कितने सफल होते हैं यह आने वाला समय ही बताएगा

Featured Post

क्या डीडीए 1991 में संसद के बनाए हुए 'वर्शिप एक्ट' को नहीं मानता है? 'मस्जिद टूटने की चीखें नहीं सुनाई देती : इमरान प्रतापगढ़ी

नई दिल्ली दिल्ली के महरौली इलाके में एक मस्जिद पर दिल्ली विकास प्राधिकरण (डीडीए) ने बीती 30 जनवरी को गैरकानूनी ढांचा बताते हुए बुलडोजर चला द...