अयोध्या के फैसले के आगे - नेताओं, कैडर के लिए भाजपा की आचार संहिता: जिम्मेदारी से व्यवहार करें ।

अयोध्या के फैसले के आगे - नेताओं, कैडर के लिए भाजपा की आचार संहिता: जिम्मेदारी से व्यवहार करें ।



भाजपा ने अपने नेताओं को चेतावनी देने के लिए क्षेत्रवार बैठकें की हैं कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और भाजपा अध्यक्ष अमित शाह की टिप्पणी आने तक किसी को भी निर्णय दिवस पर कोई बयान नहीं देना चाहिए। 



भारत के मुख्य न्यायाधीश रंजन गोगोई के 17 नवंबर को सेवानिवृत्त होने से पहले उनका फैसला आने की उम्मीद है। सुप्रीम कोर्ट द्वारा अयोध्या मामले में फैसला सुनाए जाने के बाद भड़काऊ या भड़काऊ बयानों से बचने के लिए भाजपा ने अपने नेताओं और कैडर के लिए आचार संहिता जारी की है।



 पार्टी ने अपने नेताओं को चेतावनी देने के लिए क्षेत्रवार बैठकें की हैं कि किसी को भी निर्णय दिवस पर कोई बयान नहीं देना चाहिए जब तक कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और भाजपा अध्यक्ष अमित शाह की टिप्पणी सामने न आए। 



सोमवार को भाजपा के महासचिवों ने राष्ट्रीय राजधानी में कार्यवाहक अध्यक्ष जे पी नड्डा की अध्यक्षता में बैठक में भाग लिया। 



उस दिन आचार संहिता पर चर्चा के लिए पश्चिमी क्षेत्र के लिए पूर्वी क्षेत्र और मुंबई के लिए कोलकाता में दक्षिणी क्षेत्र के लिए पार्टी ने बेंगलुरु में एक बैठक की।


Featured Post

विवाद के चलते पति ने पत्नी पर फावड़े से किया हमला! पत्नी की गई जान।

  उत्तरपूर्वी दिल्ली कई बार गृह क्लेश किसी की मौत का कारण भी बन जाते हैं। तमाम बार हमने कई ऐसी खबरें भी सुनी देखी और पढ़ी है। की क्रोध में आ...