बिना किसी के सहयोग से, 3000 लोगों को खाना मुहैया करा रहे हैं! ए.आई.सी.सी सदस्य अवनीश शलूजा


कानपुर:


लॉक डॉन के बाद लाखों करोड़ों की तादात में जो मजदूर तबका है उसकी कमर टूटी है। रोजाना मजदूरी पाने वाले मजदूरों के लिए ना रोजगार बचा है और ना अब रोटी। जिस सबके चलते राज्य सरकार केंद्र सरकार अपनी तरफ से जरूरतमंद लोगों की सहायता कर रही है। बावजूद इसके कई ऐसे लोग भी हैं जो निस्वार्थ होकर जरूरतमंद लोगों का पेट भरने में लगे हैं।



उत्तर प्रदेश के कानपुर नगर में रहने वाले ऑल इंडिया कांग्रेस कमेटी के सदस्य अवनीश शलूजा ने ऐसी मिसाल पेश की है। जिसके लिए जितनी तारीफ की जाए उतनी कम है। अवनी शलूजा कानपुर नगर के रहने वाले हैं , और जब से लॉक डाउन शुरू हुआ है, वह गरीबों और जरूरतमंद लोगों के लिए तत्पर हैं। उनका मानना है कि जरूरतमंद लोगों के लिए जितना भी कार्य किया जा सके वह कम है। अपनी इसी भावना से अवनीश शलूजा ने जरूरतमंद लोगों के लिए भोजन वितरण की व्यवस्था की है।


लॉक डाउन के बाद 23 मार्च 2020 से लगातार भोजन वितरण कर रहे हैं, और समय के साथ साथ जो भोजन वितरण की संख्या थी वह दिन प्रतिदिन बढ़ती ही जा रही है। आज 18 अप्रैल 2020 तिथि में 3000 खाने के पैकेट वितरण हुए हैं। दरिया दिल की बात यह है की अवनीश शलूजा इस भोजन वितरण में किसी भी तरह का किसी और से कोई योगदान नहीं ले रहे हैं। जितना भी भोजन वितरण में खर्च होता है वह स्वयं की पूंजी से करवा रहे हैं।



भोजन बनाते वक्त सफाई का खा़सा ध्यान रखा जाता है। तकरीबन 8 से 10 व्यक्ति हैं, जो खाना बनाने से लेकर खाना पैक करने तक सहायता करते हैं। और इन व्यक्तियों के हाथों में ग्लव्स मुंह पर मास्क व साफ-सफाई का खासा ध्यान रखा जाता है।


जनहित में कार्य कर रहे अवनीश शलूजा 20 अप्रैल 2020 को रक्तदान का कार्यक्रम भी आयोजित कर रहे हैं जिसके चलते वह खुद भी अपना रक्तदान करेंगे। और जो स्वस्थ व्यक्ति हैं उन्हें भी प्रेरित करेंगे कि वह अपना रक्तदान करें जिससे जरूरतमंद लोगों को रक्त की कमी ना हो और उनका इलाज हो सके।