जनता ने मोदी जी के निर्देश को किया तार तार, जम के मनाई बम फोड़ दिवाली।


जनता ने मोदी जी के निर्देश को किया तार तार, जम के मनाई बम फोड़ दिवाली। प्रधानमंत्री ने कहा था मोमबत्ती और दिया जलाने के लिए परंतु लोगों ने जम के फोड़े बम। और बढ़ाया वायु प्रदूषण।



देशभर में कोरोनावायरस से बचने के लिए तमाम लोग मशक्कत में लगे हैं। ‌ देशभर के डॉक्टर पुलिस सफाई करमचारी व अन्य लोग जनता की सेवा में लगे हैं।


देश के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने देश की जनता से आग्रह किया था की सब लोग 5 अप्रैल 2020 रात 9:00 बजे 9 मिनट के लिए अपने अपने घरों की छतों या दरवाजों पर आकर मोमबत्ती जला दिया जलाएं।


देश के अलग-अलग राज्यों अलग-अलग जगहों पर यह देखने को मिला कि लोगों ने देश के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के आग्रह का पालन करते हुए अपने-अपने घरों और छतों पर मोमबत्ती और दिया जलाया। और देश में एकता का प्रमाण भी दिया।


वहीं देश की कई जगहों में यह देखने को मिला की कई लोगों ने सोशल डिस्टेंस इन की धज्जियां उड़ाई और भारी मात्रा में शोरगुल मचा कर बम पटाखे जलाए। जहां एक तरफ देश के प्रधानमंत्री इस भीषण महामारी से बचाव के लिए लोगों को आग्रह कर रहे हैं वही एक चेहरा यह भी सामने आया जहां जनता ने जमकर आतिशबाजी जलाई और हवा में प्रदूषण की मात्रा बढ़ाई।


दिल्ली के उत्तर पूर्वी क्षेत्र नंद नगरी में लोगों के समूह निकले जिसके बाद लोगों ने जमकर नारेबाजी की आतिशबाजी जलाई और एक तरह का हर्ष और उल्लास मनाया। वह यह भूल गए की कोरोना वायरस महामारी से सबसे बड़ा बचाव यही है कि वह सोशल डिस्टेंसिंग बनाए रखें।


सोशल डिस्टेंसिंग को ताक पर रख लोगों ने वायु प्रदूषण को बढ़ाने में भी कोई कसर नहीं छोड़ी। घनी आबादी वाले क्षेत्रों में लोगों के अंदर जागरूकता की भारी कमी देखने को मिली। और एक तरह का कुरौना वायरस को बढ़ावा देने कि कोई कसर नहीं छोड़ी।