थाने द्वारा सूची बनाकर, डीएम को अवगत कर! बाटा जा रहा है राशन।

उत्तर प्रदेश कानपुर:


लॉक डाउन के चलते शासन प्रशासन जरूरतमंद लोगों की मदद को झूठा है जगह जगह पर यह देखने को मिल रहा है कि जरूरतमंद लोगों को खाना या राशन मुहैया कराया जा रहा है।


कानपुर थाना रेल बाजार के अंतर्गत थाने के बाहर कई लोगों की भीड़ मौजूद थे जिसकी पड़ताल करने पहुंचे एंटी करप्शन इंडिया की चीफ एडिटर अतहर हुसैन, सह संपादक मोहम्मद अमान और सब ब्यूरो चीफ आशू यादव। 



पड़ताल पर यह जानकारी निकल कर आई की थाने के बाहर भीड़ में कुछ पुलिसकर्मी भी मौजूद थे। जिसमें राजकुमार रावत विपिन कुमार और परवेज खान मौजूद थे पूछताछ पर पुलिसकर्मियों ने जानकारी दी की यहां मौजूद वह लोग हैं जो असहाय और मजबूर हैं और पुलिस थाने के अंतर्गत यह सूची बनाई जा रही है जिसके बाद जरूरतमंद लोगों को राशन मुहैया कराया जाएगा।


यह वह लोग हैं जिनके पास राशन कार्ड नहीं है कॉल लॉग डॉन के इनके पास कोई रोजगार व राशन नहीं बचा है। पुलिसकर्मियों ने बताया की सूची बनाकर यह सुनिश्चित किया जाता है की सूची के अंदर वही लोग रहे जिनको वास्तव में दिक्कत परेशानियां हैं और अपना जीवन यापन करने में असमर्थ हैं। ‌ यह सूची बनाकर डीएम के समक्ष भेजी जाती है जिसके बाद डीएम की अनुमति से लोगों को राशन मुहैया कराया जाता है। 


समस्त कानपुर शहर में कई थानों के अंतर्गत यह सूचियां बनवाई जा रही हैं जिससे जरूरतमंद लोगों को कच्चा राशन निशुल्क प्राप्त हो सके।