कानपुर नगर प्रभारी निरीक्षक हरबंशमोहाल ने पेश कि मानवता की मिसाल

*आशू यादव की खास रिपोर्ट SUB Bureau Chief Kanpur*✒️✒️
➖➖➖➖➖➖➖➖
     *भ्रष्टाचार और जुर्म के खिलाफ हर पल आपके साथ*
➖➖➖➖➖➖➖➖
         *थाना हरबंश मोहाल प्रभारी निरीक्षक सतीश कुमार*


*प्रभारी निरीक्षक हरबंशमोहाल ने पेश कि मानवता की मिसाल*


*पुलिस कर्मी भी इंसान है उनके अंदर भी हमदर्दी और सीने में कोमल दिल धडकता है इसका उदाहरण आज कानपुर सेंट्रल स्टेशन के बाहर घण्टाघर साइड में देखने को मिला। प्रवासी मजदूरों को लेकर आ रही ट्रेनो में अनेक श्रमिको को बेहाल देख थाना  प्रभारी का दिल पसीज गया । उन्होंने भूख से बेहाल मजदूरों कि महिलाओं और बच्चों को भोजन कि व्यवस्था कराई।श्रमिको के जत्थे में दो गर्भवती महिलाओ को दूध और फल खिला कर आर्थिक मदद भी की। गर्भवती महिलाओं की स्थित को देखते हुए इंस्पेक्टर हरबंश मोहाल  सतीश कुमार सिंह ने अपनी जीप से उन्हें उनके घरों को भेजना सुनिश्चित कराया।*


*पुलिस का व्यवहार देख मजदूरों ने पुलिस के प्रति आभार व्यक्त किया।पुलिस के इस मानवीय व्यहार से इस दौरान मजदूरों की आँखे नम हो गयी।*


      *आज*    *प्रवासी मजदूरों  को* *लेकर कानपुर सेंट्रल आने वाली  ट्रेनो से आने वाले मजदूरों को उनके घरों तक पहुचने के लिए जिला प्रशासन ने घण्टाघर साइड पर रोडवेज बसों की व्यवस्था की थी सभी को सुरक्षित पहुचाने के किये थाना प्रभारी हरबंशमोहल* *दल बल के साथ डटे थे दोपहर गुजरात के मोरवी से चल कर कानपुर आने ट्रेन में रूमा के निकट ग्राम के मजदूरों के दो तीन  परिवार भी थे उनके साथ महिलाओ के साथ छोटे छोटे बच्चे भी थे। लम्बी दूरी तय कर आ रहे इन परिवारों के बच्चे और महिलाएं भूख से बेहाल थे। श्रमिक घर जाने के लिए बस कि तरफ बढ़ रहे थे तभी थाना प्रभारी सतीश कुमार सिंह की नजर उन पर पड़ी उन्होंने बिलख रहे बच्चों के पास सिपाही को भेज कर पास बुला कर बच्चों के रोने का कारण पूछा  महिलाओ के गर्भवती होने के साथ भूखे होने की जानकारी पाकर  उन्हीने घण्टाघर चौरहे से भोजन के साथ बच्चों और महिलाओं को दूध एवम फल दिलाये महिलाओ की गर्भवस्था को देखते हुए  थाना प्रभारी ने जीप से उनको सुरक्षित मजदूरों के घर पहुचाया।साथ उन्हें कुछ रुपये कि आर्थिक सहायता भी की।*


*पुलिस का यह मानवीय व्यवहार देख प्रवासी मजदूर थानेदार के प्रति अभिभूत दिखे ।वही थाना क्षेत्र में भी थाना प्रभारी द्वारा लॉक डाउन में  क्षेत्रयी जनता के साथ मित्रवत व्यवहार और मदद कि चर्चायें आम है ।