ससुराल वालों ने पीट-पीट की बहू को किया अधमरा

कानपुर।
ससुराल वालों ने पीठ पीठ के बहू को किया अधमरा।
बेटी बचाओ बेटी पढ़ाओ के नारे के साथ देश में बेटियों की सुरक्षा बहुत अहम तौर पर देखी जा रही है लेकिन जैसे ही हम वास्तविकता की बात करते हैं तो यह चीज बहुत परे या कहा जाए कि उलट दिखाई देती है।



देशभर में महिला उत्पीड़न के मामले देखने को मिलते हैं, महिला का उत्पीड़न कई जगहों में देखने को मिलता है, चाहे वह उसका दफ्तर हो, चाहे उसका मोहल्ला हो, चाहे उसे मोहल्ले के दबंगों से उत्पीड़न मिल रहा हो, या फिर उसे उसके ही पति या पति के परिवार वालों से उत्पीड़न मिल रहा हो। 


कई वारदातों में यह देखने को मिला है की उत्पीड़न के चलते कई महिलाओं ने आत्महत्या भी कर ली है क्योंकि वह बेबस होकर मौत को गले लगा लेती हैं। वही हमारे देश के अंदर महिलाओं के लिए तमाम संगठन व कानून बने हैं लेकिन इन सब के बावजूद भी आज के समय में महिलाओं की स्थिति कई जगहों पर बहुत दयनीय दिखाई देती है।


ऐसी ही एक वारदात उत्तर प्रदेश के कानपुर शहर में देखने को मिली है। कानपुर शहर के ग्वालटोली इलाके में एक परिवार ने अपनी ही बहू को इतना पीटा कि उसे पीट-पीटकर अधमरा कर दिया गया। घर में बहुत शोर शराबा होने के बाद जब पड़ोसियों ने पुलिस को सूचित किया तो पुलिस मौका ए वारदात पर पहुंची और उस महिला को बचाया गया।


25 जनवरी की रात बहू को जमकर पीटा गया जिसके बाद पुलिस ने आकर बहू को बचाया बहू को पीटने वाले ससुराल के लोगों में पति पति की बहन पति की मां व पति की भाभी शामिल है। पीड़िता का कहना है कि उसे हाथी लाठी रोड इत्यादि से पीटा गया है। पुलिस ने घर के एक सदस्य को अपनी हिरासत में भी लिया है। क्षेत्र के लोगों का कहना है कि इस परिवार की पुलिस में अच्छी पकड़ होने के कारण इन लोगों ने इस तरह की वारदात को अंजाम दिया है के पुलिस व कानून इनका कुछ नहीं कर पाएगा। स्थानीय लोगों ने बताया कि यह परिवार गैस सिलेंडर रिफिलिंग का काम करता है व ट्राइडे वाले दिन चोरी से शराब भी बेचता है। 


Featured Post

क्या डीडीए 1991 में संसद के बनाए हुए 'वर्शिप एक्ट' को नहीं मानता है? 'मस्जिद टूटने की चीखें नहीं सुनाई देती : इमरान प्रतापगढ़ी

नई दिल्ली दिल्ली के महरौली इलाके में एक मस्जिद पर दिल्ली विकास प्राधिकरण (डीडीए) ने बीती 30 जनवरी को गैरकानूनी ढांचा बताते हुए बुलडोजर चला द...