शहर भर में होली का पर्व मनाते हुए देखा गया आपसी भाईचारा


*अतर। हुसैन। चीफ एडिटर।*


होली का त्यौहार पूरे भारतवर्ष में बड़े हर्ष और उल्लास के साथ मनाया जाता है होली त्यौहार की उत्पत्ति हिरण कश्यप और होली का दहन के बाद से शुरू हुई थी यह त्यौहार बुराई पर अच्छाई की जीत का प्रतीक है।



जिस तरह होलिका प्रहलाद को लेकर आग में बैठ गई थी क्योंकि होलिका को वरदान था कि वह आग से नहीं जलेगी जिसके चलते परमात्मा ने यह दिखाया है की जो बुराई करता है उसका अच्छा नहीं होता और जो अच्छाई करता है वह कभी नहीं मरता। इसी के चलते होली के इस पावन पर्व को पूरा भारत वर्ष मनाता है।


उत्तर प्रदेश के कानपुर शहर में जगह-जगह स्थाई लोगों ने होली के त्यौहार की तैयारियां की हुई है और जिस पर लोगों ने इस समय आपसी भाईचारा और प्रेम को दर्शाया है। एंटी करप्शन इंडिया के मुख्य संपादक अतहर हुसैन जी ने कानपुर शहर के कई जगहों पर जाकर लोगों से बात की और जाना की स्थाई लोग कैसे होली के पर्व को मनाएंगे और वह क्या विचार रखते हैं।


स्थाई लोगों ने बताया कि वह पिछले कई सालों से यह पर्व मना रहे हैं और इस पर में वह लोग हमेशा हिंदू मुस्लिम सिख ईसाई हर समुदाय के लोगों को साथ लेकर इस पर्व को मनाते हैं। कई जगहों पर हिंदू मुस्लिम भाईचारा व एकता भी देखने को मिली जिसमें मुस्लिम समुदाय के लोगों ने भी होली के त्यौहार में बढ़ चढ़कर हिस्सा लिया।


इस भाई लोगों से बातचीत करने पर वहां की कानून व्यवस्था कैसी रहती है इस पर भी चर्चा की गई जिस पर लोगों ने बताया कि स्थाई पुलिस से हर तरह की सुरक्षा प्राप्त होती है वह सहायता मिलती है जिसके चलते किसी भी तरह का कोई उपद्रव व अन्य मतभेद नहीं होता है।
  
*एंटी करप्शन इंडिया न्यूज़ से प्रमोद शर्मा संपादक बालाजी चौक कानपुर,  जवाहर नगर ,  जरीब चौकी सर्वधर्म आदि जगहों पर पहुंचे और स्थाई लोगों से बात की जिस पर यह जाना के स्थान लोगों में आपसी भाईचारा काफी अधिक है जिसके चलते हर जगह शांति प्रेम सद्भाव आदि देखने को मिला।


Featured Post

विवाद के चलते पति ने पत्नी पर फावड़े से किया हमला! पत्नी की गई जान।

  उत्तरपूर्वी दिल्ली कई बार गृह क्लेश किसी की मौत का कारण भी बन जाते हैं। तमाम बार हमने कई ऐसी खबरें भी सुनी देखी और पढ़ी है। की क्रोध में आ...