40 डॉक्टर बने कोविड वॉलिंटियर, 24×7 कर रहे हैं देश की सेवा।

देशभर में लॉक डाउन के चलते लोगों को बड़ी मुश्किलों का सामना करना पड़ रहा है। खास तौर पर वह लोग जो मजदूर या मध्यमवर्गीय हैं।
वैसे तो देखा जा रहा है कि राज्य सरकारी व केंद्र सरकार लोगों कि मदद करने में तमाम जद्दोजहद कर रही है। बावजूद इसके कई लोग अछूते रह जाते हैं। जिसके चलते कई सामाजिक संस्थाएं व कई सोशल एक्टिविस्ट भी मैदान में उतरे हैं। जो देश की जनता के लिए काम कर रहे हैं।



और यह सुनिश्चित कर रहे हैं की सरकार द्वारा एलान की गई चीजें व दस्तावेजों पर पारित की गई सुविधाएं जनता तक पहुंच पा रही हैं या नहीं। अगर नहीं तो क्यों? इसकी जिम्मेदारी कौन लेगा? ऐसी मुश्किल घड़ी में भी कुछ लोग अपनी जेबें गर्म कर रहे हैं।


देश में इस आपदा के चलते ऐसे ही एक शख्स जो समाज सेवक हैं कैप्टन जी.एस राठी जो बीते समय में राष्ट्रीय व‌ अंतर्राष्ट्रीय संस्थाओं व देश की सरकार के साथ भी कार्यरत रहे हैं। और इन दिनों सोशियो पॉलीटिकल एक्टिविस्ट के तौर पर देश में जो भी पॉलिसीज और ग्राउंड पर समस्याएं हैं उस को चिन्हित करते रहते हैं। 



आज कोरोना वायरस की इस महामारी से लड़ने के लिए कैप्टन जी.एस राठी ने कोविड वॉलिंटियर सेवा शुरू की है। जोकि ना केवल भारत बल्कि विदेशों में भी काम कर रही है। संपूर्ण भारत के लिए सैकड़ों की तादात में लोग इसमें हिस्सा ले रहे हैं, और समाज में जरूरतमंद लोगों के लिए मदद कर रहे हैं। 


ऐसे ही तकरीबन 40 डॉक्टर उपलब्ध है जिनका नेतृत्व डॉक्टर शुभांग सिंह कर रहे हैं। जो समस्त देश के लोगों की सेवा में लगे हैं देश के किसी भी कोने से उन डॉक्टर से संपर्क कॉल द्वारा मैसेज द्वारा या वीडियो कॉल द्वारा संपर्क कर मेडिकल हेल्प ले सकते हैं। यह सारे डॉक्टर 24 घंटे सातों दिन जनता की सेवा में उपलब्ध है। देश के कई अस्पतालों में यह देखने को मिल रहा है, कि समय पर डॉक्टर उपलब्ध नहीं है, साथ ही जो सरकार द्वारा मेडिकल हेल्पलाइन नंबर दिए गए हैं वह अधिकतम व्यस्त बताते हैं, या फिर कनेक्ट नहीं होते हैं। इस सबके चलते कैप्टन जी.एस राठी द्वारा यह कोविड वॉलिंटियर सेवा आरंभ की गई है। और देश के समस्त लोगों से आग्रह भी है जो सक्षम है और किसी तरह जरूरतमंद लोगों की मदद कर सकते हैं वह बढ़-चढ़कर इस मुहिम में हिस्सा लें।