बीटेक के बाद नौकरी छोड़ बने आईपीएस! स्वतंत्रता दिवस पर युवाओं को दिया संदेश।

दिल्ली


वर्दी धारकों की समाज में एक अलग छवि होती है। तमाम युवा स्कूल या कॉलेज के समय में यह सोचते हैं कि वह भी आगे चलकर आईपीएस आईएएस बने और एक रुतबा समाज में हासिल करें। पर वही कुछ लोग समाज में अपराध के रास्ते पर भी चले जाते हैं। युवाओं को स्कूल और कॉलेज के समय किन चीजों का ध्यान रखना चाहिए और कैसे उनका भविष्य उज्जवल हो इस पर आईपीएस रोहित मीणा से हुई खास वार्ता।




आईपीएस रोहित मीणा 2012 बैच के आईपीएस है जो राजस्थान से ताल्लुक रखते हैं बीटेक के बाद वह एक निजी कंपनी में नौकरी कर रहे थे, वह छोड़ उन्होंने आईपीएस बनने का रास्ता चुना। रोहित मीणा बताते हैं उनका मन था कि समाज की सेवा करे। और इंडियन पुलिस सर्विस एक अच्छा विकल्प है समाज सेवा करने के लिए।


आईपीएस रोहित मीणा बताते हैं कि युवकों के लिए स्कूल का समय बहुत अहम होता है यदि उन्हें अच्छी संगत मिले तो उनकी पढ़ाई अच्छी होती है और भविष्य उज्जवल रहता है। वहीं कुछ युवा ऐसे भी पाए जाते हैं जो नशे या फिर गलत संगति का शिकार हो जाते हैं और उनका भविष्य अंधकार में जाता है। 





आज के समय में साइबर क्राइम में तीव्रता आई है इसके चलते रोहित मीना बताते हैं कि तमाम लोग आज के दौर में डिजिटल प्लेटफॉर्म का प्रयोग करते हैं जिसके चलते साइबर क्राइम से ताल्लुक रखने वाले अपराधों को समाज में अंजाम दिए जा रहे हैं। 


वह आज भी तमाम देश को युवाओं के लिए कहते हैं आगामी स्वतंत्रता दिवस पर लोग अपने आप को बुराइयों से स्वतंत्र करें साथ ही अपने आत्मसम्मान और अपने अंदर के व्यक्ति को जिंदा रखें जिससे वह जिंदगी में आगे बढ़ पाए। 

रोहित मीणा कहते हैं कोई भी काम छोटा या बड़ा नहीं होता है तमाम ऐसी मिसाल सामने है जहां ज्यादा पढ़ा लिखा व्यक्ति भी कुछ नहीं कर पाता और कम पढ़ा लिखा व्यक्ति बहुत सफल जिंदगी में हो जाता है। 

Featured Post

क्या डीडीए 1991 में संसद के बनाए हुए 'वर्शिप एक्ट' को नहीं मानता है? 'मस्जिद टूटने की चीखें नहीं सुनाई देती : इमरान प्रतापगढ़ी

नई दिल्ली दिल्ली के महरौली इलाके में एक मस्जिद पर दिल्ली विकास प्राधिकरण (डीडीए) ने बीती 30 जनवरी को गैरकानूनी ढांचा बताते हुए बुलडोजर चला द...