हैल्पिंग हैंड संस्था को किया जा रहा है ग्लोबल गांधी पुरस्कार से सम्मानित

ग्लोबल गांधी अवार्ड 2019 लंदन में गांधीवादी सामाजिक कार्यों में हेल्पिंग हैंड्स के लिए।
-------------------------------------------------- -
- इसकी इतनी विनम्रता के लिए चुना जाना है


"ग्लोबल गांधी पुरस्कार 2019"


 लंदन ब्रोन बोर्ग द्वारा, लंदन में सम्मानित किया जाएगा, (ब्रिटिश संसद), लंदन,
7 अक्टूबर 2019 को, महात्मा गांधी के 150 साल पूरे होने पर लंदन में जन्म शताब्दी समारोह।


- गांधीवादी तरीके से समाज के कमजोर वर्ग तक पहुंचने के लिए गांधीवादी आदर्शवाद को प्रतिष्ठित करने के लिए यह पुरस्कार दिया जाता है। शहरों में कमजोर उत्तर पूर्वी लोगों और शैक्षिक सशक्तिकरण के लिए हैंड न्गो पहल को मान्यता दी गई है, इसलिए यह अंतर्राष्ट्रीय पुरस्कार है।


- हेल्पिंग हैंड्स नैगो सोशल वर्क इनसाइट्स हैं - गरीब छात्रों के लिए प्रतियोगी परीक्षाओं की छात्रवृत्ति, अनाथ लड़कियों के लिए छात्रवृत्ति, बड़े पैमाने पर ब्लड बैंक जुटाना, गरीब कमजोर लोगों के लिए रियायती चिकित्सा उपचार, कमजोर छात्रों के लिए करियर मार्गदर्शन, पस्त गरीबों की मदद के लिए कानूनी और परामर्श सहायता। पहाड़ी राज्यों से शहरों में नए प्रवासियों के लिए ऊष्मायन केंद्र, साइबर अपराधों को रोकने के लिए बड़े पैमाने पर सोशल मीडिया अभियान, सुरक्षित कार्य स्थान, श्रम कानूनों के बारे में जागरूकता, कार्य स्थानों में यौन उत्पीड़न, दूरदराज के पहाड़ियों में चिकित्सा शिविर और सशक्तिकरण के लिए विशेष मतदाता पंजीकरण।


- अस्वीकृति की सफलता के उपाय - अपराध पीड़ितों के हस्तक्षेप, दफन / लोगों के दाह संस्कार तक पहुंचना, एयरलाइंस की सहायता के माध्यम से पहाड़ी राज्यों में शवों को वापस भेजना, भारत के सभी शहरों में अपराध पीड़ितों के साथ एनजीओ स्वयंसेवकों के हस्तक्षेप में मदद करना।


- अरुणाचल के हिमालयी राज्य में गांडी लिब्ररी एंड रुरल इंफॉर्मेशन सेंटर और हाई एल्टिट्यूड हेल्थ यूनिट की शुरुआत हेल्पिंग हैंड नगो के कुछ प्रोजक्ट्स से हुई है।


 - यह प्रतिष्ठित अंतर्राष्ट्रीय पुरस्कार आने वाले दिनों में आदिवासी लोगों के मजलिस और कमजोर वर्ग के अंतर को बनाने के लिए हेल्पिंग हैंड एनगो के कार्यकर्ताओं और स्वयंसेवकों के नैतिकता को बढ़ावा देगा।


- प्रेस्टीजियस अवार्ड्स हेल्पिंग हैंड एनगो के सदस्यों / स्वयंसेवकों के निस्वार्थ सामाजिक कार्यों के कारण है।


Featured Post

क्या डीडीए 1991 में संसद के बनाए हुए 'वर्शिप एक्ट' को नहीं मानता है? 'मस्जिद टूटने की चीखें नहीं सुनाई देती : इमरान प्रतापगढ़ी

नई दिल्ली दिल्ली के महरौली इलाके में एक मस्जिद पर दिल्ली विकास प्राधिकरण (डीडीए) ने बीती 30 जनवरी को गैरकानूनी ढांचा बताते हुए बुलडोजर चला द...