फैक्ट्री धारकों के लिए राहत, कुछ शर्तों के साथ खुलेंगी फैक्ट्रियां।

उत्तर प्रदेश कानपुर:-


देश में कोरोनावायरस के बाद लॉक डाउन के चलते समस्त क्षेत्रों में कंपनी व फैक्ट्रियां बंद है। जिसके चलते राज्यों को आर्थिक हानि का भी सामना करना पड़ रहा है। परंतु कई राज्यों में कुछ शर्तों के तहत फैक्ट्रियों को खोलने का सरकार द्वारा आदेश दिया गया है।



उत्तर प्रदेश के कानपुर नगर में लॉक डाउन के चलते कई फैक्ट्रियां बंद है। जिसके चलते एंटी करप्शन इंडिया टीम द्वारा जिला उद्योग एवं उधान प्रोत्साहित केंद्र कालपी रोड फजलगंज कानपुर नगर में स्थित कार्यालय का निरीक्षण किया गया। जिसके बाद यह पता चला कि कानपुर के अंदर सभी फैक्ट्रियां बंद है। जिसके बाद अब प्रशासन के आदेश के बाद उद्योग खोलने के लिए ज्वाइंट कमिश्नर इंडस्ट्री श्री सर्वेश्वर शुक्ला को नियुक्त किया है। वही सर्वेश जी ने अपने कार्यालय में सभी लोगों से सरकार के आदेशों का पालन करने के लिए कहा है।



एंटी करप्शन इंडिया के चीफ एडिटर अतहर हुसैन ने संयुक्त आयुक्त उद्योग श्री सर्वेश्वर शुक्ला से जानकारी प्राप्त करी कि लॉक डाउन के बाद शहर भर की सारी फैक्ट्रियां बंद थी। जिसके चलते कानपुर शहर की जनता बहुत परेशान थी। ‌ और अब एक राहत भरा निर्णय शासन द्वारा लिया गया है जिसमें यह कहा जा रहा है कि कुछ नियमों के साथ शहर में फैक्ट्रियों को खोला जाएगा। ‌ क्या है वह नियम इसकी जानकारी एंटी करप्शन इंडिया के संपादक अतहर हुसैन ने संयुक्त आयुक्त उद्योग सर्वेश्वर शुक्ला से ली।


प्र.  शहर में फैक्ट्रियां खुलवाने हेतु क्या क्या कार्य फैक्ट्री मालिकों को करने होंगे?


उ. लॉक डाउन फेस 3 के अंतर्गत शासन द्वारा स्पष्ट गाइडलाइन दी गई हैं। जिसके तहत कुछ चीजों का फैक्ट्री चालकों को ध्यान रखना होगा। केवल आवश्यक सामग्री की आयात निर्यात की फैक्ट्रियां खोली जा रही हैं। क्षेत्रीय अधिकारियों को यह भी निर्देश दिए गए हैं कि वह फैक्ट्रियों के अंदर साफ-सफाई सैनिटाइजेशन इत्यादि का बंदोबस्त करें।


प्र. कितनी फैक्ट्रियां खुली है, और कितनी खुली बाकी है?


उ. तकरीबन 8,000 फैक्ट्रियां हैं जिनमें तकरीबन सभी फैक्ट्री में सैनिटाइजेशन का कार्य चल रहा है मजदूरों की भी यही गुहार है की फैक्ट्रियों को खोला जाए जिससे उन्हें रोजगार प्राप्त हो सके।


प्र. क्या कुछ सरकार की तरफ से नई योजनाएं आई है, जिससे लोगों को लाभ हो सके?


उ. जो लोग छोटे उद्योग स्थापित करना चाहते हैं उनकी सहायता की जाती है हमारे यहां 10 करोड़ तक के लोन मुहैया कराए जाते हैं जिससे आम जनता को अपने उद्योग लगाने में सहायता मिले। 


एंटी करप्शन इंडिया के चीफ एडिटर अतहर हुसैन ने संयुक्त आयुक्त उद्योग श्री सर्वेश्वर शुक्ला से जानकारी लेते हुए यह भी पूछा कि यह लोन जनता किस तरह प्राप्त कर सकती है क्योंकि बीते दिनों में यह पाया गया था कि कुछ लोग यह दावा करते थे कि वह कुछ पैसे लेकर लोन को मोहिया करवाएंगे जिनकी गिरफ्तारियां एंटी करप्शन इंडिया द्वारा करवाई गई थी। इस पर संयुक्त आयुक्त उद्योग श्री सर्वेश्वर शुक्ला ने जानकारी देते हुए कहा की सारी योजनाएं ऑनलाइन है। जिसके चलते जनता को कार्यालय में आने की भी आवश्यकता नहीं है। सारी जानकारी ऑनलाइन जनता के पास पहुंचा दी जाती है जिसके चलते बहुत पारदर्शिता के साथ कार्य संपन्न होता है और जनता को सरकार द्वारा लाभ प्राप्त होता है।