हमे नहीं डर किसिका

राजधानी दिल्ली
हमे नहीं है डर किसी का
चाहे चालान हो 10000 का या 50000 का।
ऐसे लोग और ऐसी गाड़ियां हमे आज भी देखने को मिलती है जो कानून तो कानून बल्कि अपनी जान से भी खेलते हैं।
ये तस्वीर है आनंद विहार से गाजीपुर दिल्ली जाते वक्त गोलचक्कर की। जहां बाईक की नंबर प्लेट पर नंबर जी जगह गुज्जर लिखा के, दो की जगह 3 सवारी साथ ही डंडा हाथ में। जैसे कानून प्रशाशन का डर ही नहीं। अब इन्हें क्या ही कहा जाए और क्या करेगा प्रशाशन इनका ये देखने कि बात है।