कोरोना: इंदौर में दिखी मुसलमानों की इंसानियत, हिंदू महिला का विधी-विधान से किया अंतिम संस्कार

कोरोना: इंदौर में दिखी मुसलमानों की इंसानियत, हिंदू महिला का विधी-विधान से किया अंतिम संस्कार



07/04/2020  M RIZWAN



एक तरफ़ जहां मुसलमानों पर ‘कोरोना जिहाद’ के आरोप लगाए जा रहे हैं, वहीं दूसरी तरफ़ मुसलमान ऐसी मुश्किल घड़ी में भी अपने हिंदू भाईयों का जी-जान से साथ देते नज़र आ रहे हैं। बुलंदशहर के बाद अब इंदौर में मुसलमानों द्वारा एक हिंदू की अर्थी को कांधा दिए जाने का मामला सामने आया है।


मामला ज़िले के साउथ तोदा इलाके का बताया जा रहा है। जानकारी के मुताबिक, यहां इलाके की ही रहने वाली एक हिंदू महिला का सोमवार की सुबह दोहांत हो गया। महिला घर में अकेली थी, उसके परिवार में कोई नहीं है। ऐसे में महिला के अंतिम संस्कार की समस्या खड़ी हो गई।


जब महिला के अंतिम संस्कार के लिए कोई सामने नहीं आया तो आसपास के रहने वाले मुसलमानों फरिश्ता बनकर सामने आ गए। उन्होंने महिला का अंतिम संस्कार का बीड़ा उठा लिया।


मुसलमानों ने हिंदू रीति रिवाज के साथ अर्थी को कंधा देते हुए शव यात्रा निकाली। जिसके बाद शव को श्मशान घाट ले जाया गया। जहां पर महिला का हिंदू विधि-विधान के साथ अंतिम संस्कार किया गया। पड़ोसियों का कहना है कि महिला लंबे समय से बीमार चल रही थी। लेकिन कोरोना के डर से वह इलाज के लिए अस्पताल नहीं गई। जिससे सोमवार को उसकी मौत हो गई।


बता दें कि इससे पहले बुलंदशहर में भी मुसलमानों ने आपसी भाईचारे की ऐसी ही एक नज़ीर पेश की थी। बुलंदशहर में एक हिंदू पड़ोसी की अर्थी को मुस्लिम समुदाय के लोगों ने उस वक़्त अपना कांधा दिया जब कोरोना वायरस के खौफ से मृतक के रिश्तेदारों ने अर्थी से किनारा कर लिया था। मुसलमानों ने हिंदू मृतक के परिवार की आर्थिक मदद भी की थी।