पत्नी से विवाद! संपत्ति के चलते पति को छत से फेंका।

कानपुर


पति का पत्नी से विवाद, विवाद के चलते पत्नी ने ससुर साले और सहयोगियों सहित पति को छत से फेका! पति की रीढ़ की हड्डी टूटी पैर ने काम करना किया बंद बन गया अपहिज।


देश में महिलाओं की सुविधा सुरक्षा और सहायता के लिए तमाम कानून महिलाओं के पक्ष में बने हैं परंतु क्या हो जब महिलाएं कानून का दुरुपयोग करें या फिर कानून को अपने प्रति लचीला समझे। 

घटना उत्तर प्रदेश के शहर कानपुर की है जहां आशीष यादव नाम के व्यक्ति की पत्नी ने संपत्ति की लालच में और विवाद के चलते आशीष को तीसरे माले से नीचे फेंक दिया। 




आशीष ने जानकारी देते हुए बताया उसका विवाद उसकी पत्नी से चल रहा था बार-बार अपनी मां के घर जाती थी मना करने पर झगड़ा उत्पन्न होता था। जब झगड़ा बढ़ा तो पत्नी ने जमीन जायदाद पर हक जताना और अपने नाम मकान करने की ज़िद करी। मांग पूरी न होने पर पत्नी इसके पिता भाई वह अन्य सहयोगियों ने आशीष यादव को तीसरी मंजिल से नीचे फेंक दिया। 


इसके बाद आशीष की रीड की हड्डी टूट गई पैर ने काम करना बंद कर दिया अब आशीष अपाहिज बन गया है। वही आशीष की माने तो पुलिस ने आरोपियों के प्रति ठीक कार्यवाही नहीं करी आशीष का कहना है थाना नौबस्ता के अंतर्गत शैलेश पांडे चौकी इंचार्ज ने उसकी पत्नी पर 307 की धारा नहीं लगाई, उल्टा पीड़ित से कहा कि उसे चुपचाप घर ले आओ महिला लक्ष्मी का रूप है वरना 382 की कार्यवाही तुम पर ही कर दूंगा। 




अब पीड़ित कानपुर पुलिस आयुक्त के दफ्तर अपनी गुहार लेकर पहुंचा है पुलिस आयुक्त ने पीड़ित को आश्वासन देते हुए एसपी दफ्तर में विवेचना अधिकारी को तलब करवाने को कहा है, अब देखने वाली बात यह होगी क्या पीड़ित को न्याय मिल पाएगा और पीड़ित की आरोपी पत्नी पर सही धाराएं लग कर कोई कार्रवाई होगी?

Featured Post

क्या डीडीए 1991 में संसद के बनाए हुए 'वर्शिप एक्ट' को नहीं मानता है? 'मस्जिद टूटने की चीखें नहीं सुनाई देती : इमरान प्रतापगढ़ी

नई दिल्ली दिल्ली के महरौली इलाके में एक मस्जिद पर दिल्ली विकास प्राधिकरण (डीडीए) ने बीती 30 जनवरी को गैरकानूनी ढांचा बताते हुए बुलडोजर चला द...