टेंपो चालकों की सरकार से मदद की गुहार।

नसीम खान की रिपोर्ट
एंटी करप्शन इंडिया न्यूज


कानपुर:-


लॉक डाउन के चलते प्रतिदिन दिहाड़ी मजदूरों की कमर टूट गई है जिसके अंदर हर क्षेत्र के वह लोग आते हैं जो प्रतिदिन दिहाड़ी प्राप्त करते थे। इसमें एक बहुत बड़ी संख्या उन टेंपो और ऑटो चालक की भी है जो प्रतिदिन टेंपो ऑटो चला कर अपना पेट पालते थे।



उत्तर प्रदेश कानपुर टेंपो यूनियन के प्रतिनिधियों ने मंडल आयुक्त कैंप कार्यालय कानपुर में पहुंचकर आयुक्त से मुलाकात की जिसमें प्रमोद शुक्ला द्वारा वार्ता की गई। टेंपो ऑटो चालक के चालक एवं मालिक को कोई भी शासन प्रशासन से मदद नहीं की गई। नहीं उन पर किसी प्रकार का ध्यान दिया गया।



80 प्रतिशत टेंपो प्राइवेट फाइनेंस पर हैं जिसमें की गाड़ी मालिकों पर फिटनेस इंश्योरेंस टैक्स खड़ी गाड़ियों का चल रहा है। गाड़ी खड़े-खड़े बेकार हो रही है चलने के ऊपर गाड़ियों पर खर्चा आएगा।


टेंपो चालकों की मांग है कि शासन प्रशासन से टेंपो मालिक और चालकों को ₹5000 प्रतिमाह मोहिया कराएं। जिससे ड्राइवर मालिक अपनी रोटी खा सके और अपने बच्चों को पाल सकें। 


इंश्योरेंस टैक्स आदि ने कुछ समय की छूट दी जाए। प्रतिनिधि  आयुक्त  मंडलायुक्त  प्रतिनिधिमंडल  मंडल आयुक्त महोदय के मंडल  कानपुर के उनके निजी सचिव देवेंद्र त्रिवेदी से मिला अपनी बात बताई और उन्होंने आश्वासन दिया इसको गंभीरता से रखा जाएगा। निधि प्रतिनिधिमंडल में टेंपो यूनियन के प्रमुख रूप से सुरजीत सिंह अशोक कुमार तिवारी प्रमोद शुक्ला सुजान पांडे कृष्ण कुमार मिश्रा धर्मेंद्र चांद खान आदि उपस्थित थे।


Featured Post

क्या डीडीए 1991 में संसद के बनाए हुए 'वर्शिप एक्ट' को नहीं मानता है? 'मस्जिद टूटने की चीखें नहीं सुनाई देती : इमरान प्रतापगढ़ी

नई दिल्ली दिल्ली के महरौली इलाके में एक मस्जिद पर दिल्ली विकास प्राधिकरण (डीडीए) ने बीती 30 जनवरी को गैरकानूनी ढांचा बताते हुए बुलडोजर चला द...